रविवार, 17 सितंबर 2017

एम्बुलेंस दादा : करीमुल-हक

राष्ट्रपति से पद्म श्री प्राप्त करते हुए करीमुल-हक
एम्बुलेंस दादा..! जी हाँ यही पहचान उत्तर-भारत के चाय बागान में काम करने वाले करीमुल-हक की। जिन्हें स्थानीय क्षेत्र के लोग एम्बुलेंस दादा के रूप में पहचानते हैं। करीमुल-हक अपनी मोटरसाईकिल रूपी एम्बुलेंस से बीमार लोगों को अस्पताल पहुँचाते हैं। वर्ष 1993 में अपनी बीमार माँ को अस्पताल पहुँचाने के लिए उन्हें एम्बुलेंस उपलब्ध नहीं हुई और समय पर चिकित्सा सुविधा ना मिलने के कारण उनकी माँ ने घर पर ही दम तोड़ दिया। इस हादसे ने करीमुल-हक तो बेहद दु:खी किया। वे अन्दर ही अन्दर घुटन महसूस करने लगे। तभी एक दिन उनके साथ चाय बागान में काम करने वाले उनके सहयोगी को चोट लगी और उन्हें अस्पताल ले जानी की आवश्यकता महसूस हुई लेकिन एम्बुलेंस उपलब्ध नहीं हुई। तभी करीमुल-हक ने अपने सहयोगी को उठाकर मोटरसाईकिल पर बिठाया और उसे अपनी पीठ से बाँधकर अस्पताल पहुँचा दिया। उसी दिन से करीमुल-हक ने यह ठान लिया कि वे मोटरसाईकिल को ही एम्बुलेंस के तौर पर इस्तेमाल करेंगे। इसके लिए उन्होंने कर्ज़ लेकर एक मोटरसाईकिल खरीदी। करीमुल-हक आसपास के लगभग बीस गाँवों में अपनी नि:शुल्क बाईक-एम्बुलेंस सुविधा प्रदान करते हैं। करीमुल-हक जहाँ रहते हैं उस जगह से निकटतम अस्पताल लगभग 45 किलोमीटर दूर स्थित है। करीमुल-हक अब तक लगभग 5000 से अधिक ज़रूरतमन्द लोगों को अपनी बाईक-एम्बुलेंस से अस्पताल पहुँचा चुके हैं। उनकी इस समाजसेवा के लिए उन्हें कई सम्मान व पुरूस्कारों के साथ-साथ भारत सरकार द्वारा "पद्म श्री" से भी सम्मानित किया जा चुका है।
एम्बुलेंस दादा की बाईक-एम्बुलेंस




बुधवार, 6 सितंबर 2017

पहाड़-पुरूष

         "माउण्टेनमेन" दशरथ माँझी
 हौंसला यदि बुलन्द हो तो पहाड़ भी आपका रास्ता नहीं रोक सकता। इस बात को चरितार्थ करने वाले पहाड़-पुरूष अर्थात् "माउण्टेनमेन" का नाम है- दशरथ माँझी। दशरथ माँझी का जन्म सन 1934 में हुआ। बचपन में ही वे घर से भाग कर धनबाद की कोयला खदानों में काम करने लगे। शादीयोग्य आयु हो जाने पर उनका विवाह फगुनी देवी से हुआ। एक दिन पहाड़ से फ़िसलने के कारण उनकी उनकी पत्नी गँभीर रूप से घायल हो गईं। इलाज के लिए शहर जाना अपेक्षित था किन्तु पहाड़ के कारण शहर का मार्ग अत्यधिक लम्बा था। इसी के चलते समय पर चिकित्सा ना मिल पाने के कारण दशरथ माँझी की पत्नी फगुनी का निधन हो गया। अपनी पत्नी की इस प्रकार हुई मृत्यु ने दशरथ माँझी को विचलित कर दिया। उन्होंने अपने गाँव और शहर के मध्य खड़े विशालकाय पहाड़ को काटकर रास्ता बनाने की ठान ली जिससे गाँव के लोगों को किसी भी आपात स्थिति में शहर पहुँचने में देर ना हो। उन्होंने अकेले ही छैनी-हथौड़े से पहाड़ को काटना शुरू कर दिया। प्रारम्भ में गाँववालों ने उनके इस दुष्कर कार्य का मज़ाक उड़ाया लेकिन माँझी के दृढ़ सँकल्प के आगे वे मौन हो गए। अन्तत: 22 (1960-1983) वर्षों की अनवरत कठोर साधना के पश्चात दशरथ माँझी ने गहलौर गाँव के समीप स्थित पहाड़ को काटकर 110 मीटर लम्बे और लगभग 9 मीटर चौड़े मार्ग का निर्माण कर दिया। उनके इस प्रयास से गया जिले के अतरी और वजीरगंज क्षेत्रों के बीच की दूरी लगभग 40 कि.मी तक कम हो गई। उनकी इस उपलब्धि के उन्हें आज "माउण्टेनमेन" के नाम से जाना जाता है। वर्ष 2006 में बिहार से सरकार ने उनका नाम पद्मश्री पुरुस्कार के लिए प्रस्तावित किया। 26 दिसम्बर 2016  को "बिहार की हस्तियाँ नामक श्रृँखला में इंडिया पोस्ट द्वारा उनके नाम पर एक डाक टिकट जारी किया गया। कैंसर की बीमारी के कारण 17 अगस्त 2007 को 73 वर्ष की आयु में "माउण्टेनमेन" श्री दशरथ माँझी का निधन हो गया।

दशरथ माँझी द्वारा निर्मित मार्ग

                                



शुक्रवार, 1 सितंबर 2017

एक सेनानी का संघर्ष

श्री गौर हरिदास जी अपनी धर्मपत्नि के साथ
न्याय व सम्मान यदि उचित समय पर ना मिलें तो वे अपना मूल्य खो देते हैं। आज हमारे देश में ऐसे हज़ारों उदाहरण मौजूद हैं जिनमें देरी से मिले न्याय व सम्मान ने अपना मूल्य खो दिया। अपनी गौरवपूर्ण पहचान व सम्मान को प्राप्त करने के लिए किए ऐसे ही एक सँघर्ष का नाम है- स्वतन्त्रता सँग्राम सेनानी श्री गौर हरिदास। जिन्हें स्वयं को स्वतन्त्रता सँग्राम सेनानी साबित करने में तीस वर्ष से भी अधिक का समय लगा। श्री गौर हरिदास जी ने स्वतन्त्रता सँग्राम सेनानी के प्रमाण पत्र के लिए सन् 1976 में आवेदन दिया था जो उन्हें हमारे आजाद देश की लचर व्यवस्थाओं के चलते 33 वर्षों बाद सन् 2009 में प्राप्त हुआ। 85 वर्षीय श्री गौर हरिदास पाँच वर्षों तक स्वतन्त्रता आन्दोलन का हिस्सा रहे थे। वानर सेना के सदस्य के रूप में वे छिपकर स्वतन्त्रता सँग्राम से सम्बन्धित साहित्य और सन्देशों को लोगों तक पहुँचाने का काम करते थे। सन् 1945 में उन्होंने अंग्रेज़ों के आदेश के ख़िलाफ़ भारत का झण्डा लहराया था जिसके लिए उन्हें दो महीने जेल में बिताने पड़े थे। ओडिशा में पैदा हुए श्री गौर हरिदास तेरह भाई-बहनों में दूसरी सन्तान थे। उनके पिता गाँधीवादी थे और अपने पिता से ही उन्हें स्वतन्त्रता आन्दोलन में शामिल होने की प्रेरणा मिली। श्री गौर हरिदास जी ने 'ख़ादी ग्रामोद्योग आयोग' में लम्बे समय तक कार्य किया। श्री गौर हरिदास जी का सँघर्ष तब शुरू हुआ जब उन्हें अपने पुत्र को एक सँस्थान में प्रवेश दिलाने के लिए स्वतन्त्रता सँग्राम सेनानी के प्रमाण-पत्र की आवश्यकता महसूस हुई। स्वतन्त्रता सँग्राम सेनानी के प्रमाण-पत्र के लिए श्री गौर हरिदास जी ने आवेदन दिया जो उन्हें विभिन्न सरकारी कार्यालयों व मन्त्रालय के चक्कर लगाने के उपरान्त 33 वर्षों बाद प्राप्त हुआ। उनके बेटे को तो अपनी प्रतिभा के आधार पर उस सँस्थान में प्रवेश मिल गया लेकिन श्री गौर हरिदास जी का जीवन अपनी गौरवपूर्ण पहचान पाने के लिए एक लम्बे सँघर्ष में बदल गया। एक ऐसा सँघर्ष जिसमें ना कोई धरना-प्रदर्शन था; ना ही कोई नारा था; यदि था, तो बस श्री गौर हरिदास जी के हाथों में अपनी फ़ाईलों का एक बण्डल जिसे लेकर वह अत्यन्त शान्तिपूर्ण ढँग से एक कार्यालय से दूसरे कार्यालय तक वर्षानुवर्ष भटकते रहे। सम्मान से कहीं अधिक यह स्वयं की पहचान की लड़ाई थी। वर्ष 2009 में स्वतन्त्रता सँग्राम सेनानी का प्रमाण-पत्र प्राप्त होने के साथ श्री गौर हरिदास जी के सँघर्ष को तो विराम लग गया लेकिन इस सँघर्ष ने उनसे उनके जीवन के कई अनमोल पल छीन लिए जो उन्हें अब कभी प्राप्त नहीं होंगे।

-ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया
  सम्पादक