बुधवार, 23 अप्रैल 2014

“भद्रा” करेगी मोदी की राह आसान

आज सभी की निगाहें बनारस की ओर लगी हुई हैं। बनारस से आज भाजपा के प्रधानमंत्री पद के दावेदार नरेन्द्र मोदी नामांकन भरने वाले हैं। हिन्दू शास्त्रों के अनुसार यदि सिर्फ़ शुद्ध मुहूर्त ही साध लिया जाए तो कुण्डली कुयोग आधे से अधिक तक निष्प्रभावी हो जाते हैं और अभीष्ट की सिद्धि होती है किंतु काशी के विद्वान ज्योतिषियों ने आज के दिन को नामांकन के लिए शुभ नहीं माना है, क्योंकि आज “भद्रा” है। ज्योतिष शास्त्रानुसार “भद्रा” एक बहुत ही अशुभ योग होता है जिसमें किए गए समस्त कार्य सदा निष्फ़ल हो जाते हैं। यही कारण है कि कल अनेक न्यूज़ चैनलों पर आज के दिन मोदी के नामांकन भरने को लेकर चर्चा होती रही। काशी के एक विद्वान ज्योतिषी ने तो यहां तक कह दिया कि मोदी को ज्योतिष पर विश्वास नहीं है और वे इसकी उपेक्षा करने के लिए ही इस दिन नामांकन दाखिल करने जा रहे हैं, बहरहाल यह सत्य कि आज “भद्रा” है परन्तु ज्योतिष के विद्वान अध्येयताओं को यह पता होना चाहिए कि आज “उत्तरार्द्ध” की भद्रा है;ना कि “पूर्वाद्ध” की। “उत्तरार्द्ध” की भद्रा रात्रि में त्याज्य होती है जबकि “पूर्वाद्ध” की भद्रा दिन में, इसके विपरीत “उत्तरार्द्ध” की “भद्रा” दिन में सभी कार्यों में प्रशस्त होती है और “पूर्वाद्ध” की रात्रि में। शास्त्रानुसार “भद्रा” में समस्त शुभ कार्य वर्जित होते हैं किंतु समस्त क्रूर कार्य जैसे शत्रु पर आक्रमण,शत्रु वध,मारण, उच्चाटन आदि “भद्रा” में ही शुभ होते हैं इस दृष्टि से भी आज का दिन नामांकन के लिए शुभ है। वैसे भी “भद्रा” के मुख की ५ घटियां अर्थात् २ घंटे ही त्याज्य होते है “भद्रा” का पृष्ठ भाग कार्यों में सफलता दिलाता है। अतः यदि मोदी की कुण्डली के कुयोगों की शांति होती है तो “भद्रा” मोदी की राह बहुत हद तक आसान कर देगी।
-ज्योतिर्विद हेमन्त रिछारिया

कोई टिप्पणी नहीं: