रविवार, 26 मई 2013

पहले गाय को मां कहते थे अब मां को गाय समझते हैं- मुनव्वर राणा

 कल मशहूर शायर मुनव्वर राणा से हुई मुलाकात के दौरान मुनव्वर जी ने गिरते सामाजिक व मानवीय मूल्यों पर बड़ी मार्मिक टिप्पणी करते हुए कहा कि "पहले तो लोग गाय को मां कहते थे लेकिन अब मां को भी गाय समझते हैं।" उन्होंने बढ़ते पारिवारिक विघटन व कम होते संयुक्त परिवारों पर भी अपनी चिंता ज़ाहिर की। पत्रकारिता और कविताओं को सगी बहनें बताने वाले मुनव्वर राणा कहते हैं कि जो बात पत्रकार सीधे-सीधे और सख़्त लहजे में कहकर बुराई का शिकार बनते हैं वही बात कवि और शायर बड़े प्यार से बोल देता है और लोगों को पता भी नहीं चलता।

कोई टिप्पणी नहीं: