रविवार, 26 मई 2013

"तिश्नगी" को दी शुभकामनाएं

मेरे अप्रकाशित गज़ल संग्रह "तिश्नगी" के फायनल प्रुफ की सी.डी. पर मुनव्वर राणा जी ने अपना शेर लिखकर इस गज़ल संग्रह को अपनी शुभकामना प्रदान की।

कोई टिप्पणी नहीं: