शुक्रवार, 5 अप्रैल 2013

फथपुर सीकरी बना फतेहपुर सीकरी -

श्री पी.एन.ओक की पुस्तक "भारतीय इतिहास की भयंकर भूलें" नामक पुस्तक के कुछ तथ्य निश्चित ही अकाट्य व सहज ग्राह्य हैं जैसे- यह तथ्य भी सहज ही ग्राह्य होने जैसा है कि जो भी मकबरे वर्तमान में जिस शहंशाह के नाम से संबंधित है उसी शंहशाह के महल का कहीं कोई वर्णन क्यों नही मिलता? वहीं अधिकतर स्मारकों व नगरों का हिन्दू नामों के समकक्ष व संस्क्रत का अपभ्रंश होना व इनके शासकों का इन्हें अपने नाम से जोड़ना। इसके कुछ उदाहरण इस प्रकार हैं-
१.फतेहपुर सीकरी- फथपुर सीकरी-सीकरी शब्द सीकर से बना है जो कि संस्क्रत के शब्द "सिकता" से संबंधित है जिसका अर्थ है-रेत। राजस्थान के एक प्रमुख स्थान को "सीकर" के नाम से पुकारा जाता है। सीकर से आए हुए व्यक्तियों के लिए ही "सीकरी" शब्द प्रयुक्त होता था। संस्क्रत में "पुर" प्रत्यय भी बस्ती का द्योतक है। इससे यह सिद्ध होता है यह नगर एक राजपूत नगर था जो बाद में विजित होकर "फतेहपुर सीकरी" बना।
२. अहमदाबाद-(अहमद शाह)-कर्णवती या राजनगर
३. औरंगाबाद-(औरंगज़ेब)-कटकी या खड़की
४. होशंगाबाद-(होशंगशाह)-नर्मदापुर
५. अहमनगर-अम्बिका नगर
६. अजमेर- अजय मेरू
७. आगरा- अग्र

"भारतीय इतिहास की भयंकर भूलें"-(प्र.क्रं.-६४-७४)

कोई टिप्पणी नहीं: