बुधवार, 17 अप्रैल 2013

कौनो ठगवा नगरिया लूटल हो....

यदि आपसे पूछा जाए कि क्या आप जानते हैं कि हाल ही में रूपए के जिस चिन्ह को राष्ट्रीय मान्यता प्रदान की गई, उसके जनक कौन है? तो आप कहेंगे- डी उदया कुमार! यूं तो बिल्कुल ठीक कहा आपने लेकिन क्या आप जानते हैं कि डी उदया कुमार कौन हैं और ये रूपए के चिन्ह का चयन करने वाली प्रतियोगिता में विजेता कैसे बने? यदि नहीं तो हम आपको बताए देते हैं कि डी उदया कुमार डीएमके के पूर्व विधायक धर्मालिंगम के पुत्र है जो उस समय केंद्र में सत्तारूढ़ कांग्रेस की सरकार में शामिल थी। डी उदया कुमार किस प्रकार नियमों का खुलेआम उल्लंघन करके इस प्रतियोगिता के विजेता बन गए इसे जानने के लिए पढ़िए "तहलका" का १५ अप्रैल का अंक। "तहलका" संवाददाता राहुल कोटियाल की इस रिपोर्ट से आपको पता चलेगा कि ये राजनेता अपने राजनैतिक लाभ के लिए किस हद तक गिर सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: