शनिवार, 17 मई 2008

याचना

"इस चक्की पे खाते चक्कर
मेरा तनमन जीवन जरजर
हे कुंभकार ! मेरे मिट्टी को
और ना अब हैरान करो
मत मेरा निर्माण करो"

कोई टिप्पणी नहीं: